IQNA

16:54 - June 11, 2016
समाचार आईडी: 3470474
अंतरराष्ट्रीय समूह:सदयों से बहुत से धर्म अपने अनुयायियों की आत्याधमिक और रूहानी तरक़्की के लिऐ राह व रविश और विशेष क़ानून अनिवार्य किऐ जिनमें ऐक धार्मिक शिक्षा “रोज़ह”उपवास है जो धर्मों और विभिन्न भूमियों पर अलग अलग शकलों व तरीक़ों से रखा जाता है।

दुनिया के विभिन्न धर्मों और परंपराओं में उपवास

अंतरराष्ट्रीय कुरान समाचार एजेंसी (IQNA) "अद्दयार" जानकारी डेटाबेस के अनुसार, कुरान के अनुसार, इस्लाम से पहले दिव्य धर्मों के अनुयायियों पर, उपवास अनिवार्य था। लेकिन केवल मुसलमान, ईसाइ और यहूदी ही नहीं हैं जो उपवास कर रहे हैं, बल्कि गैर आस्तिक कानूनों में भी उपवास और शारीरिक तपस्या को अपने अनुयायियों के शरीर और आत्मा को अच्छी तरह से प्रशिक्षित करने के लिऐ महत्वपूर्ण जाना गया है ।

दिव्य धर्मों के बीच उपवास का एक लंबा इतिहास रहा है, प्राचीन इबादत है कि उसके उद्भव को आदम और हव्वा के स्वर्ग से निष्कासन के साथ जोड़ा जा सकता है

लेकिन उपवास संस्कृति और धार्मिक कानून में कुछ समय और कुछ चीजों से बचना है।

सर्वशक्तिमान अल्लाह सूरा Baqarah 183 आयत में कहता हैं: " «يَا أَيُّهَا الَّذِينَ آمَنُوا كُتِبَ عَلَيْكُمُ الصِّيَامُ كَمَا كُتِبَ عَلَى الَّذِينَ مِنْ قَبْلِكُمْ لَعَلَّكُمْ تَتَّقُونَ» " (हे वह लोग जो ईमान लाऐ हो उपवास आप सभी के लिए निर्धारित है जैसा कि तुम से पहले वालों पर भी लिखा गया था शायद तुम मुत्तक़ी हो जाओ)।

यह आयत इंगित करती है कि उपवास मुसलमानों और उस से पहले की उम्मतों पर भी अनिवार्य था। इस्लामी हदीसों में आया है कि तौरेत, इंजील,ज़बूर, स्वर्गीय किताबें और क़ुरआन रमजान में नाज़िल हुई हैं।

इस रिपोर्ट में, दुनिया के अन्य धर्मों और परंपराओं में उपवास के कुछ अनुष्ठानों को पेश कर रहे हैं:

सिख धर्म में उपवास:

"गुरु नानक", सबसे पहले संस्थापक और सिख धर्म के सच्चे संस्थापक 15 वीं सदी के अंत में का माने जाते हैं कि 1469 ईस्वी में, हिंदू माता-पिता से जन्म हुआ था।

सिख धर्म में उपवास अनिवार्य नहीं है, उनका मानना ​​है कि वे प्रार्थना और चिंतन से भगवान के करीब हो सकतें हैं, यह आईन भारतीय और इस्लामी प्रतीकों के विनियमन से संयोजन है।

ईसाई धर्म में उपवास:

ईसाई धर्म उपवास के तरीक़े धर्म या चर्च के अनुयायी या जनजाति के अनुसार अलग अलग है, उपवास पश्चाताप को ज़ाहिर करने और माफी के रूप में माना जाता है और ईसाईयों के विभिन्न समूहों में रायज एक अवसर के रूप में कि बड़े रोज़ के नाम से प्रसिद्ध है पवित्र ईद के सप्ताह के बुधवार के दिन से रोज़ह शुरू होता है और पवित्र ईद समरोह पर ख़त्म होता है।

हिंदू धर्म अनुष्ठान में उपवास:

हिंदू धर्म, हिंदू इज़्म या हिन्दू क़ानून या Hndvtva, हिंदू धर्म है कि प्राचीन काल के तीन हजार से अधिक साल से और मिल्युन अनुयायियों रखते हैं। ईसाई धर्म और इस्लाम के बाद, हिंदू धर्म दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा धर्म है।

हिंदुओं में उपवास विभिन्न तरीक़ों से है ऐक उपवास जिसमें खाने व पीने से बचते हैं ऐक उपवास जिसमें पीने से बचते हैं और ऐक उपवास जिसमें पत्नी से संबंध बनाने से दूर रहते हैं।

कुछ हिंदुओं उपवास रखते हैं और पानी के अलावा कुछ भी नहीं खाते हैं। इसी तरह विभिन्न तरीक़े है जैसे शादी से पहले और अन्य उत्सव के अवसर पर, कुछ महिलाऐं एक दिन अपने पति के जीवन के वृद्धि के लिऐ रखती हैं।

बौद्ध धर्म में उपवास:

बौद्ध धर्म गौतम Sydarta (सिद्धार्थ गौतम) की शिक्षाओं से पैदा हुआ है कि ईसवी से 535 साल पहले निखरा और बुद्ध नाम अपनाया।

बौद्धों में उपवास बहुत फैला है लेकिन अनिवार्य नहीं है आधे दिन में बौद्ध भिक्षुओं उपवास रखते और कुछ लोग भोजन खाते हैं।

जैन अनुष्ठान में उपवास:

हिंदू धर्म अनुष्ठान की शाखाओं में ऐक, "जैन" "जीत" के अर्थ में है कि पाँच सदियों ईसा पूर्व स्थापित किया गया था । जैनियों के अनुसार, इस धर्म के संस्थापक, "महावीर," महान ताक़तवर के नाम से जाना जाता है कि हजारों साल के दौरान उनसे पहले तेईस पेशवा आऐ है कि वह चौबीसवें रहबर हैं।

जैन धर्म उपवास के क्षेत्र में सबसे मुश्किल धर्मों में से एक के रूप में माना जाता है। अपने अनुयायियों को अनुमति देते हैं कि केवल फल और सब्जियों खाऐं और मांस खाने से परहेज करें।

जैनी लोग विशेष कर जब गुनाह का ऐहसास करते हैं तो उपवास रखते हैं और कुछ इनमें जब यह समझते हैं कि अपने धार्मिक कर्तब्य को पूरा कर लिया है तो मरने तक खाने पीने से बचते हैं।

यहूदी धर्म में उपवास:

फिरऔन के डूबने के बाद, मूसा (अ.स)की क़ौम ने ऐक पुस्तक की अपील की, क्योंकि परमेश्वर, इन लोगों का मार्गदर्शन करने के लिए एक किताब भेजना चाहता था, शुरू में पैगंबर मूसा (अ.) से बताया कि तूर पहाड़ के नीचे 30 दिन रोज़ह रखें। मूसा ने वैसा ही किया, लेकिन पाया कि रोज़ह के कारण मुंह की गंध बदल गई है। और सोचा कि इस बुरे गंध के साथ मुनाजात करना सही नहीं है और सुगंधित पेड़ की छाल इस्तेमाल की ता कि उनके मुंह की गंध दूर होजोऐ। प्रार्थना के समय, जिब्रियील आऐ और कहा, "एक उपवास व्यक्ति के मुंह की गंध अल्लाह की दृष्टि में कस्तूरी से बेहतर है।"

यहूदियों के जो उपवास इस समय मशहूर है दो तरह का ह:ऐक, वार्षिक उपवास जो ऐक दिन क़ुर्बान के दिन उपवास है जो गुनाह के कफ़्फ़ारे रूप में है और 10सितम्बर ज़ोह्र के बाद पांच बजे से दूसरे दिन ज़ोह्र के सात बजे तक जारी रहता है कि उसक टाइम 26 घंटे होता है। दूसरा,मुहर्रम का दिन पैगंबर जकर्याह(PBUH) की शहादत और यरूशलेम के विनाश का दिन कि 9 बजे से 10 अगस्त के दिन अस्र तक होता है।

मूल निवासी अमेरिकी जनजातियों में भी उपवास महान आत्मा से मार्गदर्शन और सुझाव प्राप्त करने में प्रभावी माना जाता और उनके शोक समारोह में भोजन से बचना भी है।

इस्लाम में उपवास का समय बहुत नियमित है और शुरुआत और दिन के अंत तक है जब कि वर्तमान अन्य धर्मों में इस तरह नियमित नहीं है, उदाहरण के लिए, यहूदी और ईसाई का उपवास अनियमित है और बहुत दिक़्क़त की जरूरत है।

3505830

दुनिया के विभिन्न धर्मों और परंपराओं में उपवास

दुनिया के विभिन्न धर्मों और परंपराओं में उपवास


दुनिया के विभिन्न धर्मों और परंपराओं में उपवास

दुनिया के विभिन्न धर्मों और परंपराओं में उपवास


दुनिया के विभिन्न धर्मों और परंपराओं में उपवास
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :